देश

Terrace Farming: दिल्ली के युवक ने नौकरी के बाद भी घर की छत को बनाया खेत, जानिए कैसे निकाला समय

Terrace Farming: अगर आप भी अपने घर की छत पर सब्जी उगाना चाहते हैं तो आपको कम से कम पौधों के साथ शुरुआत करनी है और उनकी नियमित रूप से देखभाल करनी है. अगर आप मौसमी सब्जियां उगाना चाहते हैं तो आपको उसकी बुवाई के समय का ध्यान रखने की जरूरत है.

 
Rajkumar-Singh-Rawat1_62cbb47f051fc

Terrace Farming: रावत ने कहा कि नौकरी करने के साथ टेरेस फार्मिंग करना आसान नहीं है, लेकिन अब यह उनके डेली रूटीन में शामिल हो गया है.
नई दिल्ली
Terrace Farming: अगर आप भी 9:00 से 5:00 की नौकरी करते हैं तो आपको पता होगा कि शिफ्ट का कामकाज खत्म करने के बाद जीवन कैसा हो जाता है. नौकरी का काम पूरा करने के बाद आप आराम करना चाहते हैं या कोई मूवी देखने के लिए जाना चाहते हैं.

दिल्ली के एक युवा राजकुमार रावत 9:00 से 5:00 की नौकरी को आधे दिन का ही काम मानते हैं, इसके बाद वह अपने घर की छत पर जाकर बागवानी करते हैं. उन्होंने अपने घर की छत को मिनी वेजिटेबल गार्डन बना दिया है. वह अपने बच्चों को भी इस काम के लिए प्रेरित करते हैं और उन्हें भी बागवानी में मदद करने के लिए कहते हैं.

राजकुमार रावत उत्तराखंड के पौड़ी गढ़वाल के रहने वाले हैं और दिल्ली में अपने परिवार के साथ रहते हैं. राजकुमार के पिता जगमोहन सिंह रावत एक सैनिक थे. उन्हें देश के अलग-अलग हिस्से में रहने का मौका मिला. राजकुमार का बचपन पंजाब में बीता था. उन्होंने खेती-बाड़ी को बहुत नजदीक से देखा है. इसके बाद राजकुमार में बागवानी का क्रेज जगा.

अपनी पढ़ाई और बाद में जॉब के साथ बागवानी के शौक के लिए उन्हें समय कम पड़ने लगा था. कोरोना संक्रमण रोकने के लिए जब लॉकडाउन किया गया और दफ्तर बंद हो गए, तब रावत को अपने घर की छत पर बागवानी करने का ख्याल आया.

काम के साथ टेरेस फ़ार्मिंग

इस समय रावत गुड़गांव की एक बहुराष्ट्रीय कंपनी में काम करते हैं, लेकिन उसके साथ ही बागवानी के शौक को जिंदा रखे हुए हैं. रावत दक्षिण दिल्ली के संगम विहार में रहते हैं और अपने घर की छत पर उन्होंने मिनी वेजिटेबल गार्डन बनाया हुआ है.


केमिकल फ्री सब्जियां

रावत ने कहा है कि वह अपने घर की छत पर उगाने वाली सब्जियों में केमिकल का इस्तेमाल बिल्कुल नहीं करते हैं. इसके साथ ही घर से निकलने वाले अधिकतर कचरे को वह बागवानी में इस्तेमाल कर लेते हैं. अपने परिवार के साथ मिलकर रावत ने अपने पूरे घर को ग्रीनहाउस बना दिया है. इस वजह से उनके घर में कई चिड़िया आती है और वहां घोसले बना लेती है.

सीजनल सब्जियों की भरमार
रावत की छत पर कई मौसमी सब्जियां उगाई जाती है. अपने घर की छत को सब्जियों के लिए एक माध्यम बनाकर रावत केमिकल और पेस्टिसाइड फ्री सब्जियों का आनंद भी ले रहे हैं. रावत के घर की छत पर ही इतनी सब्जियां हैं कि उन्हें सीजनल सब्जियां बाजार से खरीदने की जरूरत नहीं पड़ती है.

समय निकालने की जरूरत
रावत ने कहा कि नौकरी करने के साथ टेरेस फार्मिंग करना आसान नहीं है, लेकिन अब यह उनके डेली रूटीन में शामिल हो गया है. वह सुबह जल्दी जगते हैं या दफ्तर से लौटने के बाद शाम में पौधों के साथ समय बिताते हैं. वह अपने बच्चों को भी गार्डनिंग के लिए साथ ले जाते हैं जिससे वे पौधों के बीच अधिक समय गुजार सकें और मोबाइल या टीवी से दूर रह सकें.


कम पौधे से करें शुरुआत

रावत ने कहा घर की छत पर गार्डनिंग करना बहुत मुश्किल नहीं है, कोई भी व्यक्ति आसानी से यह कर सकता है. आपको कम से कम पौधों के साथ शुरुआत करनी है और उनकी नियमित रूप से देखभाल करनी है. अगर आप मौसमी सब्जियां उगाना चाहते हैं तो आपको उसकी बुवाई के समय का ध्यान रखने की जरूरत है.

Back to top button
%d bloggers like this: