देश

ITR Deadline: 54 फीसदी करदाताओं ने अबतक नहीं भरा आईटीआर, जानिए डेडलाइन के बाद कितना लगेगा फाइन

ITR Deadline: 54 फीसदी करदाताओं ने अबतक नहीं भरा आईटीआर, जानिए डेडलाइन के बाद कितना लगेगा फाइन

Rizwan Mohammad | ET OnlineUpdated: 21 Jul 2022, 6:35 pm

Income Tax Return Filing Last Date: जैसे-जैसे नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे आयकर विभाग लोगों को जल्द से जल्द इसे भरने के लिए लोगों को प्रोत्साहित कर रहा है. बावजूद करदाताओं को आईटीआर फाइल करने की फिक्र नहीं है. आंकड़ों के अनुसार 54 फीसदी करदाताओं ने अबतक आईटीआर नहीं भरा है.

 
ITR deadline

ITR deadline Latest Updates: करदाताओं को आईटीआर फाइल करने फिक्र नहीं है. आयकर विभाग के अनुसार अब तक केवल 2 करोड़ लोगों ने ही आयकर रिटर्न फाइल किया है.
नई दिल्ली:
Income Tax Return: 
आयकर रिटर्न भरने की आखिरी तारीख 31 जुलाई है और डेडलाइन पूरा होने में 10 से भी कम दिन बचे हैं. बावजूद नौकरीपेशा वर्ग आईटीआर फाइल करने में तेजी नहीं दिखा रहा है. आयकर विभाग ने उन करदाताओं का की संख्या का खुलासा किया है, जिन्होंने आईटीआर फाइल कर दिया है. आंकड़े बेहद चौंकाने वाले हैं.

जैसे-जैसे नजदीक आ रही है, वैसे-वैसे आयकर विभाग लोगों को जल्द से जल्द इसे भरने के लिए लोगों को प्रोत्साहित कर रहा है. बावजूद करदाताओं को आईटीआर फाइल करने की फिक्र नहीं है. आयकर विभाग के अनुसार अब तक केवल 2 करोड़ लोगों ने ही आयकर रिटर्न फाइल किया है, जो कि बेहद कम संख्या है.

लोकल सर्कल सर्वे के आंकड़ों के अनुसार 54 फीसदी लोग ऐसे हैं जिन्हें अभी आईटीआर फाइल करना है. जबकि, 37 फीसदी लोगों का कहना है कि शायद वह डेडलाइन तक आईटीआर फाइल नहीं कर पाएंगे. लोकल सर्कल के अनुसार 50 फीसदी ऐसे लोग हैं जिन्हें 31 जुलाई तक हर हाल में आईटीआर फाइल करना ही पड़ेगा.

किसे भरना चाहिए आईटीआर
आयकर विभाग के नियमों के अनुसार देश के हर उस नागरिक को आईटीआर भरना चाहिए जिसकी सालाना कमाई कम से कम 2.5 लाख रुपये से अधिक है. हालांकि, इस कमाई पर वरिष्ठ नागरिकों को छूट हासिल है. आईटीआर फाइल करते समय आय के सभी साधनों का जिक्र करना होता है.

देरी पर लगेगा भारी जुर्माना
आयकर विभाग ने करदाताओं को आईटीआर फाइल करने के लिए आखिरी तारीख 31 जुलाई तय कर रखी है. जबकि, ऑडिट की तारीख 31 अक्टूबर तय की है. 31 जुलाई तक प्रत्येक करदाता को आईटीआर फाइल करना आवश्यक है. अगर 31 जुलाई के बाद आईटीआर फाइल किया गया को करदाता को फाइन के रूप में 5,000 रुपये देने पड़ेंगे. आयकर नियमों के अनुसार सेक्शन 234F के तहत करदाता से जुर्माने की रकम वसूल की जाती है.

Back to top button
%d bloggers like this: