देश

bitcoin mining cloud computing Cryptocurrency Mining: क्या होती है बिटकॉइन माइनिंग और कैसे करती है काम, क्रिप्टोकरंसी में पैसे लगाने से पहले इसे जरूर समझ लें

bitcoin mining cloud computing

Cryptocurrency Mining: जब भी क्रिप्टोकरंसी की बात आती है तो कई मुश्किल से टर्म सुनने को मिलते हैं, जैसे ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी (Blockchain Technology), क्रिप्टोकरंसी माइनिंग (Bitcoin Mining)। अक्सर लोग इन्हें जाने बगैर ही क्रिप्टोकरंसी में निवेश (Investment in Cryptocurrency) करने लग जाते हैं, लेकिन आप जहां पैसे लगा रहे हैं, आपको ये पता होना जरूरी है कि वहां काम कैसे होता है। इनके बारे में जानकर आप ये समझ पाएंगे कि आखिर क्रिप्टो में पैसे लगाना सुरक्षित है भी या नहीं।

navbharat times 1
Cryptocurrency Mining: इन दिनों क्रिप्टोकरंसी (cryptocurrencies) की लोकप्रियता तेजी से बढ़ती जा रही है। शुरुआत में तो सिर्फ बिटकॉइन (Bitcoin) का ही नाम सुनने को मिलता था, लेकिन अब उसकी तर्ज पर बहुत सारी क्रिप्टोकरंसी (Investment in Cryptocurrency) बन गई हैं। क्रिप्टोकरंसी के नाम पर तो बहुत सारे फ्रॉड भी होने लगे हैं। जहां एक ओर लोग क्रिप्टोकरंसी के दीवाने हुए जा रहे हैं, वहीं सरकार इसे लेकर सख्त रवैया अपनाए हुए है और भारत में इसे रेगुलेट करने के लिए कानून बनाने की कोशिशें कर रही है। जब भी क्रिप्टोकरंसी की बात आती है तो कई मुश्किल से टर्म सुनने को मिलते हैं, जैसे ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी (Blockchain Technology), क्रिप्टोकरंसी माइनिंग (Bitcoin Mining)। आइए आज जानते हैं इनके बारे में और आसान भाषा में समझते हैं इन्हें।
माइनिंग का नाम सुनते ही सबसे पहले सोने, हीरे या कोयले की खुदाई का ख्याल मन में आता है। क्रिप्टो माइनिंग या बिटकॉइन माइनिंग का मतलब पजल्स को सॉल्व करके नई बिटकॉइन बनाना है। चलिए थोड़ा आसान भाषा में समझते हैं। जिस तरह हम किसी को पैसे भेजने को लिए कोई ट्रांजेक्शन करते हैं तो वह पहले बैंक के पास जाती है और फिर बैंक उसे वैलिडेट कर के आगे भेजता है। क्रिप्टोकरंसी के मामले में कॉइन भेजने वाले उसे रिसीव करने वाले के बीच में बैंक जैसा कुछ नहीं होता है, बल्कि सिर्फ कंप्यूटर्स होते हैं। इन कंप्यूटर्स को कुछ लोग चलाते हैं, जिसके जरिए हर ट्रांजेक्शन वैलिडेट होती है। उनकी इस मेहनत के बदले उन्हें बिटकॉइन मिलते हैं। इसे ही बिटकॉइन माइनिंग कहते हैं। अन्य क्रिप्टोकरंसी में भी इसी तरह माइनिंग होती है।
जब कोई शख्स किसी दूसरे शख्स को क्रिप्टोकरंसी भेजता है, तो वह ट्रांजेक्शन कंप्यूटर्स के पास जाती है। इनके जरिए क्रिप्टोकरेंसी ट्रांजैक्शन को वेलिडेट किया जाता है और इन्हें डिस्ट्रिब्यूटेड लेजर में शामिल किया जाता है। यह सारी ट्रांजेक्शन एक ब्लॉक में दर्ज होती हैं और इस ब्लॉक की साइज करीब 1 एमबी की होती है। जब एक ब्लॉक भर जाता है तो उसे ब्लॉक कर के नया ब्लॉक बनाया जाता है और नए ब्लॉक को पहले वाले ब्लॉक से जोड़ा जाता है। यह सारे ब्लॉक एक दूसरे से जुड़े रहते हैं, जिससे एक चेन सी बन जाती है। इसी वजह से इसे ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी कहा जाता है।

महत्वपूर्ण खबरे

Sariya aur Cement huaa Sasta : सरिया-सीमेंट के भाव में आई भारी गिरावट, जाने रेट

Sone Ke Bhav : सोने के भाव में जोरदार उछाल, चांदी भी हुई महंगी, आयात शुल्क में बढ़ोतरी का है असर, आगे और दाम बढ़ने के आसार

Webstory: फर्जी प्रोफाइल बनाकर मैंने अपने देवर के साथ संबंध बनाने पर बात की, जहाँ मुझे कुछ भी गलत नहीं लगा

Top Web Series: Mx Player पर फ्री में देखें ये बोल्ड सीन्स से भरपूर वेब सीरीज, आश्रम को भी छोड़ा पीछे

Top Web Series : इस सीरीज को देखने के बाद आप भूल जाएंगे आश्रम वेब सीरीज

Back to top button
%d bloggers like this: